Durga chalisa PDF download

Durga chalisa pdf download: श्री दुर्गा चालीसा Durga mata is a very famous deity in hinduism that is worshipped in every hindu family. The festivals associated with Durga maa are navratri, durga puja, Vijayadashami and durga puja.

Navratri is a nine day festival that is celebrated in various parts of India. These days people used to fast and celebrate the festivals. 

Durga chalisa pdf download 

Durga puja also known as durgotsav or sharadotsav is celebrated in Hindu festivals on the victory of durga maa over mahisasur. 

Vijaydashami also called as Dussehra or is the one of the major festivals of hindu that is celebrated after navratri or tenth day of navratri.

Durga chalisa pdf details

  • Title –durga chalisa in hindi pdf
  • Format– PDF
  • Size– mb
  • Page- 05
  • Subject- durga chalisa
  • Language– English and Hindi

Durga chalisa in hindi pdf

श्री दुर्गा चालीसा

नमो नमो दुर्गे सुख करनी।
नमो नमो दुर्गे दुःख हरनी॥

निरंकार है ज्योति तुम्हारी।
तिहूं लोक फैली उजियारी॥
शशि ललाट मुख महाविशाला।
नेत्र लाल भृकुटि विकराला॥

रूप मातु को अधिक सुहावे।
दरश करत जन अति सुख पावे॥

तुम संसार शक्ति लै कीना।
पालन हेतु अन्न धन दीना॥

अन्नपूर्णा हुई जग पाला।
तुम ही आदि सुन्दरी बाला॥
प्रलयकाल सब नाशन हारी।
तुम गौरी शिवशंकर प्यारी॥

शिव योगी तुम्हरे गुण गावें।
ब्रह्मा विष्णु तुम्हें नित ध्यावें॥

रूप सरस्वती को तुम धारा।
दे सुबुद्धि ऋषि मुनिन उबारा॥

धरयो रूप नरसिंह को अम्बा।
परगट भई फाड़कर खम्बा॥
रक्षा करि प्रह्लाद बचायो।
हिरण्याक्ष को स्वर्ग पठायो॥

लक्ष्मी रूप धरो जग माहीं।
श्री नारायण अंग समाहीं॥

क्षीरसिन्धु में करत विलासा।
दयासिन्धु दीजै मन आसा॥

हिंगलाज में तुम्हीं भवानी।
महिमा अमित न जात बखानी॥
मातंगी अरु धूमावति माता।
भुवनेश्वरी बगला सुख दाता॥

श्री भैरव तारा जग तारिणी।
छिन्न भाल भव दुःख निवारिणी॥

केहरि वाहन सोह भवानी।
लांगुर वीर चलत अगवानी॥

कर में खप्पर खड्ग विराजै।
जाको देख काल डर भाजै॥
सोहै अस्त्र और त्रिशूला।
जाते उठत शत्रु हिय शूला॥

नगरकोट में तुम्हीं विराजत।
तिहुंलोक में डंका बाजत॥

शुंभ निशुंभ दानव तुम मारे।
रक्तबीज शंखन संहारे॥

महिषासुर नृप अति अभिमानी।
जेहि अघ भार मही अकुलानी॥
रूप कराल कालिका धारा।
सेन सहित तुम तिहि संहारा॥

परी गाढ़ संतन पर जब जब।
भई सहाय मातु तुम तब तब॥

अमरपुरी अरु बासव लोका।
तब महिमा सब रहें अशोका॥

ज्वाला में है ज्योति तुम्हारी।
तुम्हें सदा पूजें नर-नारी॥
प्रेम भक्ति से जो यश गावें।
दुःख दारिद्र निकट नहिं आवें॥

ध्यावे तुम्हें जो नर मन लाई।
जन्म-मरण ताकौ छुटि जाई॥

जोगी सुर मुनि कहत पुकारी।
योग न हो बिन शक्ति तुम्हारी॥

शंकर आचारज तप कीनो।
काम अरु क्रोध जीति सब लीनो॥
निशिदिन ध्यान धरो शंकर को।
काहु काल नहिं सुमिरो तुमको॥

शक्ति रूप का मरम न पायो।
शक्ति गई तब मन पछितायो॥

शरणागत हुई कीर्ति बखानी।
जय जय जय जगदम्ब भवानी॥

भई प्रसन्न आदि जगदम्बा।
दई शक्ति नहिं कीन विलम्बा॥
मोको मातु कष्ट अति घेरो।
तुम बिन कौन हरै दुःख मेरो॥

आशा तृष्णा निपट सतावें।
रिपू मुरख मौही डरपावे॥

शत्रु नाश कीजै महारानी।
सुमिरौं इकचित तुम्हें भवानी॥

करो कृपा हे मातु दयाला।
ऋद्धि-सिद्धि दै करहु निहाला।
जब लगि जिऊं दया फल पाऊं ।
तुम्हरो यश मैं सदा सुनाऊं ॥

दुर्गा चालीसा जो कोई गावै।
सब सुख भोग परमपद पावै॥

देवीदास शरण निज जानी।
करहु कृपा जगदम्ब भवानी॥

Durga chalisa in english pdf

Namo Namo Durge Sukh Karani,
Namo Namo Ambe Dukh Harani.
Nirankar Hai Jyoti Tumhari
Tihun Lok Pheli Ujayari.

Shashi Lalat Mukh Maha Vishala,
Netra Lal Brikuti Vikrala.
Roop Matu Ko Adhika Suhave,
Daras Karat Jan Ati Sukh Pave.

Tum Sansar Shakti Laya Kina,
Palan Hetu Anna Dhan Dina.
Annapurna Hui Jag Pala,
Tumhi Adi Sundari Bala.

Pralaya Kal Sab Nashan Hari,
Tum Gauri Shiv Shankar Pyari.
Shiv Yogi Tumhare Gun Gave,
Brahma Vishnu Tumhe Nit Dhyaven.

Roop Saraswati Ko Tum Dhara,
De Subudhi Rishi Munin Ubara
Dharyo Roop Narsimha Ko Amba,
Pragat Bhayin Phar Kar Kamba.

Raksha Kari Prahalad Bachayo,
Hiranakush Ko Swarg Pathayo.
Lakshmi Roop Dharo Jag Mahi,
Shree Narayan Ang Samahi

Ksheree Sindhu Karat Vilasa,
Daya Sindhu Deejay Man Aasa
Hingalaj Mein Tumhi Bhavani,
Mahima Amit Na Jaat Bakhani
For more download pdf

durga chalisa pdf download
Shani chalisa PDF download

Other useful pdf

Comment for any query and feedback.

Thank You

Comment for any query and feedback.

Thank You

 

Leave a Comment